शादीशुदा-युवक ने अपने को कुवाँरा बताकर,मंदिर में शादी करके अठारह-साल तक युवती का किया यौन-शोषण । असलियत खुलने पर पीडिता को बेसहारा छोड़ा ।

शादीशुदा-युवक ने अपने को कुवाँरा बताकर,मंदिर में शादी करके अठारह-साल तक युवती का किया यौन-शोषण । असलियत खुलने पर पीडिता को बेसहारा छोड़ा ।

दिल्ली :- (अनीता गुलेरिया) पालम इलाके में यौन-शोषण की घटना सामनेआई है,जिसमें एक युवती ने सतीश शर्मा शख्स के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा,उसके तलाकशुदा होने पर युवक ने उससे स्तांवना देने के नाम पर छतरपुर-मंदिर में उससे शादी करने के बाद उसे दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पत्नी के तौर पर रखते हुए युवती के पीछे से दो बच्चों को पिता का नाम राशन-कार्ड,आधार-कार्ड, वोटर-कार्ड हर जगह पत्नी का दर्जा देते हुए,धोखे मे रखकर उसका शारीरिक-शोषण करता रहा । पीड़िता ने मीडिया समक्ष बताते हुए कहा, उसके कई बार प्रेग्नेंट होने पर वह उसका जबरन-अबॉर्शन भी करवाता रहा,पीड़िता की बड़ी लड़की की शादी में पिता के रूप में कन्यादान तक करने वाले इस बहरूपिये-इंसान की एक साल पहले जब असली हकीकत, कि वह पहले से शादीशुदा और उसके दो बच्चे हैं,पीड़िता के पूछने पर उसके साथ मार-पिटाई करते हुए उसे कई तरह की यातनाएं देते हुए,उसे बेसहारा छोड़ कर अपनी पहली पत्नी के पास महावीर-एनक्लेव मे जाकर रहने लगा हैं । पीड़िता-अनुसार कुछ महीने पहले सतीश शर्मा ने उसकी बुरी तरह पिटाई करते हुए,उसे सरेआम रोड पर घसीटते हुए जान से मारने की धमकी देते हुए उसको, अपने बच्चों को लेकर हमेशा के लिए दिल्ली से चले जाने की धमकी दी । बुरी तरह से घायल-युवती द्वारा पालम थाने मे शिकायत दर्ज करवाने पर,किसी तरह की सुनवाई ना करते हुए आरोपी पर कार्रवाई तो दूर, पुलिस ने घायल महिला का मेडिकल-चेकअप करवाना भी मुनासिब नहीं समझा । पीडिता ने अपने बयान में बताया,अभी थोड़े दिन पहले दर्ज हुए केस 376/323/509/506/34 धारा के तहत आरोपी को तिहाड जेल मे तीन चार दिन रहने के बाद जमानत मिलने के उपरांत,उसके द्वारा अनजान लोगों के जरिए,केस वापस ना लेने पर, उसको बच्चों सहित दिल्ली से गायब करके जान से मारने की धमकियां देकर डराना-धमकाना निरंतर जारी है । अठारह साल से अपनी अस्मत-लूटा चुकी पीड़िता ने अपने साथ हुए शोषण के प्रति इंसाफ की गुहार लगाते हुए कहा, मैं आज जिंदा हूं,शायद कल ना भी रहूं, मेरे साथ किसी भी समय, कुछ भी हो सकता है । यदि सरकार महिला संरक्षण नहीं दे सकती, तो कम से कम मेरे दोनों बच्चों को सुरक्षा तो प्रदान करे । इस शातिर ने शादीशुदा होने के बावजूद सरकारी कागजात जैसे आधार-कार्ड,राशन-कार्ड वोटर-कार्ड पर बिना तलाक के दूसरी महिला को अपनी पत्नी का दर्जा देते हुए पीडिता के यौन-शोषण के इलावा सरकार के साथ भी सरासर धोखा करते हुए दोहरे-जुर्म को अंजाम दिया है । बुरी तरह से खौफजदा-पीडिता ने रोते हुए बताया यहां दिल्ली में उसका कोई भी नहीं है । मेरे इलावा, मेरे बच्चों के साथ,यदि कोई हादसा होता है,तो उसका मुख्य-दोषी यह सतीश शर्मा व उसका परिवार ही होगा,जिससे मुझे हर रोज केस को लेकर जान से मारने की धमकियां मिल रही है , हर समय खौफ़ व डर के माहौल मे जी रही जिंदगियों के प्रति क्या प्रशासन-विभाग उन्नाव-कांड की तरह हादसा होने के बाद जागरूक होगा ? अक्सर इस तरह की घटनाएं सरकार द्वारा महिला-संरक्षण के झूठे-खोखले दावो की पोल-खोलती नजर आती हैं ।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply