पुलिस को जनकपुरी मे मासूम बच्ची से बलात्कार मामले मे नोटिस।

पुलिस को जनकपुरी मे मासूम बच्ची से बलात्कार मामले मे नोटिस।

I

नई दिल्ली-समाधानवाणी

डीसीडब्ल्यू की चीफ स्वाति मालीवाल ने पुलिस व महिला एवं बाल विकास आयोग को मासूम बच्ची से बलात्कार मामले मे सी आई सी की काउंसलर को सूचना न देने का आरोप लगाते हुए, नोटिस जारी किया हैं।जबकि दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार सूचना देना जरूरी है।जब मीडियाकर्मी इस घटना की जानकारी के बारे मे जानने के लिए थाना प्रभारी जनकपुरी के पास गए तो इस घटना का अपने इलाके मे न होना व ऐसी किसी घटना की सूचना उनके पास न होना बतलाया।तब मीडियाकर्मी घटना वाली जगह व सफदरजंग अस्पताल पर पहुँच कर घटना की जानकारी जुटाई।स्वाति को जब मीडिया के द्वारा इस घटना की जानकारी मिली तो वो सीधे अस्पताल पहुँचकर पीड़ित परिवार व बच्ची से मिली।डॉक्टरों से बच्ची के हालात के बारे में पूछा तो डॉक्टर नेमासूम की हालात काफी नाजुक बताई व मासूम के सिर व शरीर पर गहरे चोट के निशान थे।डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची के घाव ठीक होने मे कम से कम एक वर्ष लग सकता है।स्वाति मालीवाल ने पुलिस को इस घटना की अनभिज्ञता पर नाराजगी जताई हैं।स्वाति ने इस मामले मे नाराजगी जताते हुए पुलिस से जबाब मांगा है।आयोग ने दिल्ली पुलिस से प्रथम सूचना रिपोर्ट की कॉपी, आयोग की सीआईसी काउंसलर को सूचना न देने की वजह तथा इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ की गई कार्यवाही की जानकारी मांगी है।आयोग ने महिला व बाल विकास को भेजे नोटिस मे पूछा है कि बच्ची के पुर्नवास के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं तथा हैवानियत के ऐसे दरिन्दे को अपनी जान पर खेलकर पकड़ कर पुलिस के हवाले करने वाले टैक्सी ड्राइवर का काम भी सरहानीय हैं।देश व समाज को ऐसे लोगों के प्रति आभार प्रकट करना चाहिए।



administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply