रावता गांव का खूनी तालाब एक साथ तीन बच्चों की मौत

रावता गांव का खूनी तालाब एक साथ तीन बच्चों की मौत

दिल्ली (अनीता गुलेरिया) रावता गांव के तालाब में डूबने से तीन  भाइयों की एक साथ हुई मौत ।रावता-निवासी अमन के तीन बच्चे थे । जिनमें से एक का नाम शुभम उम्र (16) पियूष उम्र (13)  रुद्राक्ष उम्र (11) साल स्कूल से आने के बाद अपनी भैंसो को लेकर तलाब पर गए,कुछ देर बाद उनके उनके पशु पानी के ज्यादा अंदर चले गए,काफी देर तक निकालने पर जब वह नहीं निकले, तो दो भाई तालाब के अंदर उतर गए, तालाब की ज्यादा गहराई होने से वह दलदल में धंसते चले गए । दोनों भाइयों को डूबता देख, तीसरा भाई उन्हें बचाने तालाब में कूद गया ।लेकिन वह भी दलदल की वजह से पानी के ऊपर नहीं आ पाया ।डूबते बच्चों की चीख-पुकार सुनकर, गांव के लोगों ने उन्हें ढूंढना शुरू किया, थोड़ी देर बाद एक बच्चे का शव पानी के ऊपर आ गया । आनन-फानन में जब उसे बाहर निकाला गया, तो वह दम तोड़ चुका था । मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल विभाग-कर्मियो ने लगभग डेढ़ घंटे की मुशक्कत के बाद डूब चुके दोनों भाइयों के शव को बाहर निकाला । तीन दिन बाद पहुंची हेडलाइंस-इंडिया टूडे टीम की सीनियर रिपोर्टर अनिता गुलेरिया से गांव के लोगों से हुई बातचीत के कुछ अंश आपको दिखाते हैं, रावता गांव के लोगो ने उस खूनी तालाब, जिसमे एक साथ मौत के मुह मे समाई तीन जिन्दगियो का मुख्य-दोषी दिल्ली सरकार को ठहराया । ग्राम निवासियों अनुसार दिल्ली सरकार द्वारा तालाब की जरूरत से ज्यादा की गहराई और दो साल से अधूरा रखे काम से, तालाब की नीचे की सतह को पक्का नहीं करने के कारण उसमे बने दलदल से गांव के बच्चे,और बड़ों की जान को खतरे का कारण बताते हुए, इस खूनी तालाब को हमेशा के लिए बंद करके उस पर एक पार्क बनाने की बुलंद आवाज को एक साथ उठाते हुए कहा, बस !और नहीं चाहिए, अब हमें इस खूनी तालाब का यह, खूनी खेल खूनी खेल   ।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply