बुलंदशहर में कब्रगाह बनी गौशालाएं

बुलंदशहर में कब्रगाह बनी गौशालाएं

कब्रगाह बनी गौशालाएं

बुलंदशहर (मोहित गोमत) : यूपी के योगी राज में बुलंदशहर के गौ आश्रय स्थलों में गोवंशों की समुचित देखभाल न होने के कारण गोवंश तड़प तड़प कर दम तोड़ रहे है। जनपद के 143 गौ आश्रय स्थलों में बदइंतजामी का आलम यह है कि मार्च से लेकर अब तक 70 गौवंश दम तोड़ चुके हैं। 70 गौवंशों की मौतों का आंकड़ा सरकारी है, लेकिन गौवंशों की मौतों की हकीकत सरकारी दावों से कहीं ज्यादा बताई जा रही है। वो भी तब जब बुलंदशहर में गौ आश्रय स्थलों में गौवंशो के रख रखाव पर 2.13 करोड़ रुपये खर्च किये जा चुके है।

ग्राम प्रधानों की माने तो 1 गौवंश के चारे के लिए मात्र ₹30 प्रतिदिन मिलता है, जिसमें 1 गोवंश को दोनों टाइम का चारा की व्यवस्था करना मुश्किल है। ₹30 में तो बच्चे की चॉकलेट भी नहीं आती और प्रशासन गोवंश के रखरखाव को लेकर ग्राम प्रधानों पर कार्रवाई करने पर तुला है। मजबूर ग्रामप्रधान भी अब लामबंद होने लगे है

बुलंदशहर में अगर गौवंश और गौ आश्रय स्थलों की बात करें तो यहां अस्थाई रूप से गांव और शहरों में 143 गौशालाएं खोली गई हैं, जिनमें 8558 गौवंश रखे गए हैं। जिला पशु चिकित्सा अधिकारी का दावा है कि सभी गौवंशों की इयर टैगिंग और गौशालाओं की जीओ टैगिंग की जा चुकी है। अब तक गौवंशों के पालन और रखरखाव पर 2.13 करोड़ रुपये भी खर्च किये जा चुके हैं। बावजूद इसके गौशालाओं में गौवंशों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। सूत्रों का तो ये भी कहना है कि गौशालाओं में गौवंशों को भरपूर चारा पानी भी नहीं मिल पा रहा है। यही कारण है कि गौवंशों के दम तोड़ने का सिलसिला थम नहीं रहा है और मौत का आंकड़ा 70 तक जा पहुंचा है।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply