कालाधन मामले में सरकार को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट

कालाधन मामले में सरकार को मिली स्विस बैंक के खाताधारकों की लिस्ट

  • काले धन को लेकर भारत सरकार को बड़ी कामयाबी
  • स्विट्जरलैंड की सरकार से मिली खातों की जानकारी
  • 2020 में भारत को सौंपी जाएगी अगली जानकारी

नई दिल्ली : काले धन के खिलाफ लड़ाई में भारत को बड़ी सफलता मिली है। स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ा पहले दौर का विवरण स्विट्जरलैंड ने भारत को सौंप दिया है, जिसमें सक्रिय खातों की भी जानकारी शामिल है। स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन (FTA) ने 75 देशों को एईओआई के वैश्विक मानदंडों के तहत वित्तीय खातों के ब्योरे का आदान-प्रदान किया है, जिनमें भारत भी शामिल है।

स्विट्जरलैंड के टैक्स विभाग के अनुसार, इसके बाद भारत सरकार को अगली जानकारी 2020 में सौंपी जाएगी. जानकारी के अनुसार, स्विट्जरलैंड में दुनिया के 75 देशों के करीब 31 लाख खाते हैं जो रडार पर हैं, इनमें भारत के कई खाते भी शामिल हैं.

स्विट्जरलैंड की सरकार से जानकारी मिलने के बाद सरकार के सूत्रों का कहना है कि जो जानकारी मिली है उसमें सभी खाते गैरकानूनी नहीं हैं. सरकारी एजेंसियां अब इस मामले में जांच शुरू करेंगी, जिसमें खाताधारकों के नाम, उनके खाते की जानकारी को बटोरा जाएगा और कानून के हिसाब से एक्शन लिया जाएगा.

यह पहली बार है कि भारत को स्विट्जरलैंड से एईओआई ढांचे के तहत ये जानकारी प्राप्त हई है। इस प्रावधान के तहत वित्तीय खातों की जानकारी का आदान-प्रदान किया जाता है। वो खाते जो वर्तमान में सक्रिय हैं और वो खाते भी जो 2018 के दौरान बंद कर दिए गए थे। एईओआई के द्वारा प्राप्त जानकारी बेहद गोपनीय होती है।

एफटीए अधिकारियों ने खातों की संख्या या स्विस बैंक के भारतीय ग्राहकों के खातों से जुड़ी वित्तीय संपत्तियों के बारे में कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया। एफटीए ने भागीदार देशों को कुल 3.1 मिलियन वित्तीय खातों की जानकारी भेजी थी जिनमें उसे लगभग 2.4 मिलियन की जानकारी प्राप्त हुई है।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

3 Comments

Leave a Reply