इंदिरा-पार्क के कुम्हार-कॉलोनी में पीपल का पेड़ लोगो के लिए बना आफता-भरा सबब ।

इंदिरा-पार्क के कुम्हार-कॉलोनी में पीपल का पेड़ लोगो के लिए बना आफता-भरा सबब ।

दिल्ली :- (अनीता गुलेरिया) उत्तम नगर इंदिरा-पार्क के कुम्हार-कॉलोनी शिव मंदिर में पीपल का पेड़ आसपास बने घरों के लिए उनकी जान का सबब बन चुका है । स्थानीय निवासियों ने मीडिया-समक्ष अपनी समस्या के प्रति-रोष व्यक्त करते हुए कहा,कई दिनों से समय रहते पेड की छटाई न होने से पीपल-पेड़ की शाखाओं की बढ़ोतरी इस कदर हो गई है,काफी मोटी-टहनियो की चपेट मे आने से हमारे घरों की छतो व दिवारो को नुकसान पहुंच रहा है । शिवमंदिर के साथ सटे हुए घर के मालिक भूरेलाल ने बताया मेरे घर की छत टीन से ढकी हुई है । मेरी आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं है,कि मै इसे पक्का और सही करवा सकू । पीपल की मोटी-टहनियों का भारी भरकम वजन छत पर इतना हो चुका है,मेरी छत की सारी टीन काफी हद तक नीचे को झुक गई है । रात को सोते हुए भी हमारी सांसे अटकी रहती है,पता नहीं हमारे साथ कब कोई बुरा हादसा हो जाए ।स्थानिया-निवासियो अनुसार जनवरी मे भी सब ने मिलकर पीपल के पेड की छंटाई करवाने हेतु राजौरी-गार्डन के नगर-निगम मे उधान-विभाग को कालोनी की दिक्कत के बारे में जानकारी लिखित-रूप मे दी थी । इसके बावजूद भी प्रशासन-विभाग का कोई भी अधिकारी मौके का दौरा करने नहीं आया,और ना ही हमारी समस्या का कोई समाधान किया गया । सार्वजनिक-रूप से सभी ने केंद्र और दिल्ली सरकार के प्रति भारी-रोष व्यापत करते हुए कहा, क्या सरकार के लिए हमारी व हमारे परिवार की जिन्दगिया कोई मायने नही रखती है ? सरकार का लोगों की जिंदगियों को जन-संरक्षण प्रदान करना उसका मुख्य-दायित्व नही  बनता है क्या ? हमारी जिंदगी सिर्फ वोट-देने तक ही सीमित है आखिर क्यो ? लोगो ने विभाग को दोषी ठहराते हुए कहा, क्या ? प्रशासन-विभाग का काम समय-रहते पेड़ों की कांट-छटाई करवाना नहीं है । मीडिया से बात करते हुए भूरेलाल ने कहा यदि आने वाले दिनों में मेरे परिवार के साथ पेड़-संबंधित जानलेवा हादसा होता है, खंभे की तारों का पेड़ की शाखाओं मे फंसे होना शार्ट-सर्कट जैसी किसी भी बडी घटना को कभी भी अंजाम दे सकता है । उसका मुख्य-दोषी केंद्र और दिल्ली सरकार ही होगी । समझ नहीं आता, प्रशासन-विभाग समय रहते काम ना करके, किसी आपदा के आने का इंतजार करते हुए कई-जिंदगियों के साथ खिलवाड़ करने में क्यो लगा रहता है ? अब देखना यह है, कुम्हार-कॉलोनी निवासियों की जानलेवा-समस्या के प्रति प्रशासन-विभाग सुचारू रूप से काम करने के लिए अपनी कुंभकरनी-नींद से जागता है या नहीं ?

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply