इंडियागेट पर बना शहीदों के नाम पर नेशनल वॉर मेमोरियल (राष्ट्रीय युद्ध स्मारक)

इंडियागेट पर बना शहीदों के नाम पर नेशनल वॉर मेमोरियल (राष्ट्रीय युद्ध स्मारक)

राकेश कुमार। समाधानवाणी
नेशनल वॉर मेमोरियल यानी राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की संरचना चक्रव्यूह सी है।जिसमें चार व्रतकार परिसर है और एक ऊँचा स्मृति स्तम्भ हैं।इसके नीचे अखण्ड ज्योति दीप्तमान रहेगी।इसमें तीनों सेनाओं की छै प्रमुख लड़ाइयों का जिक्र है तो छबीस हजार  शहीदों के नाम भी दर्ज हैं।
राष्ट्रीय युद्व स्मारक का निर्माण इंडिया गेट परिसर मे सी हेक्सगन पर किया गया है जो चालीस ऍकर क्षेत्र में फैला हुआ है।इसके निर्माण मे 176 करोड़ रुपये की लागत आई ।आज जो स्मारक हमे मिला है इसकी माँग 1961 से शुरू हो गई थी और 2015 मे केंद्रीय मंत्रिमंडल से मंजूरी मिलने के बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हो गया और पचीस फरवरी 2019 को प्रधानमंत्री द्वारा इस स्मारक को जनता के लिए खोल दिया।इंडिया गेट का निर्माण जहाँ अंगेजो ने प्रथम विश्व युद्ध और अफगान केम्पन के दौरान जान गवांने वाले चौरासी हज़ार भारतीय सैनिकों की याद मे किया था वही राष्ट्रीय युद्ध स्मारक मे देश की आज़ादी के बाद से राष्ट्र के लिए अपना जीवन कुर्बान करने वाले छबीस हजार जवानों के नाम अंकित करे गए हैं।इस मेमोरियल का निर्माण चार लेयर मे किया गया हैं और इसमें सेना, नोसैना व वायुसेना की छै महत्वपूर्ण लड़ाइयों का भी जिक्र हैं।अब शहीदों से जुड़े सभी कार्यक्रम यही आयोजित होंगे।इंडिया गेट की अमर ज्योति पर भी पहले की तरह प्रतिदिन सुबह फूल चढ़ाए जाते रहेंगे।राष्ट्रीय युद्ध स्मारक मे लोगों की एंट्री निशुल्क होगी।हालांकि कुछ खास दिनों पर एंट्री पर रोक हो सकती हैं।राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर रोजाना सूर्यास्त से पहले रिट्रीट सेरेमनी होगी तो रविवार सुबह 9:50पर चेंज ऑफ गार्ड सेरेमनी होगी जो करीब आधे घंटे होगी।इंडियागेट पर अमरज्योति की तरह राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर भी शहीद सैनिकों की आत्मा की शांति के लिए दीप प्रज्वलित होती रहेंगी।

administrator, bbp_keymaster

Related Articles

Leave a Reply